निरक्षर महिलाओं की बुनियादी शिक्षा को लेकर शुरू हुआ नवरत्न का 21 दिवसीय पाठ्यक्रम
September 26, 2019 • Akram Choudhary






नोएडा:(अमन इंडिया) प्रतिभा विकास समर्पित सामाजिक संस्था नवरत्न फाउंडेशन्स द्वारा "शिक्षित महिला, उन्नत राष्ट्र" के ध्येय से चल रहे नवरत्न महिला प्रौढ़ शिक्षा अभियान के तहत आज निरक्षर महिलाओं की सुलभ शिक्षा को लेकर 21 दिवसीय बुनियादी शिक्षा के पाठ्यक्रम की शुरुआत की गई। "21 दिन शिक्षा की ओर" कार्यक्रम के इस प्रथम शिक्षा केन्द्र का शुभारंभ आज नोएडा सेक्टर 53 स्थित गिंझोर गांव की बिहारी कालोनी में स्थापित विंध्या पब्लिक स्कूल में किया गया।
उल्लेखनीय है कि परिवार, समाज, व देश का महत्वपूर्ण हिस्सा मानी जाने वाली महिलाएं जहाँ एक तरफ अपनी प्रतिभा के बल पर आसमान की उचाईंया छू रही हैं वही कुछ पिछड़े क्षेत्रो में रूढ़िवादिता, आर्थिक आभाव व अन्य समस्याओं के चलते आज भी शिक्षा की कमी से आगे नही निकल पा रही हैं।किसी परिवार का महत्वपूर्ण अंग महिला अगर शिक्षित होगी तो निश्चित तौर पर वह परिवार विकास करेगा जिससे समाज व राष्ट्र भी विकास करेगा।इन सब विचारों से प्रेरित होकर नवरत्न अध्यक्ष अशोक श्रीवास्तव ने महिलाओं के शत प्रतिशत शैक्षिक विकास हेतु सामाजिक संस्था नवरत्न फाउंडेशन्स के शिक्षित महिला, उन्नत राष्ट्र अभियान के तहत नोएडा इलाके में महिला प्रौढ़ शिक्षा केंद्रों की स्थापना की थी।झिझक को दूर कर महिलाओं ने इन केंद्रों पर बढ़ चढ़ कर भागीदारी दर्ज कराई और विद्या अर्जित की।महिलाओं के शिक्षा अर्जन की ललक देख कर उत्साहित नवरत्न फाउंडेशन्स ने कम समय मे बेहतर व बुनियादी शिक्षा देने के उद्देश्य से 21 दिनों का पाठ्यक्रम निर्धारित कर 3 सप्ताह में शिक्षित करने की योजना तैयार कर ली थी जिसे आज से अमलीजामा पहना कर निठारी की पूर्व प्रधान विमलेश शर्मा के साथ एनईए कोषाध्यक्ष नीरू शर्मा, राजेश्वरी त्यागराजन, पूनम कुमार, प्रधानाचार्य आरती श्रीवास्तव के करकमलों से शुभारम्भ किया गया।इसके पहले सप्ताह में महिलाओं को हिंदी/अंग्रेजी में अपना व अपने परिवार का नाम लिखना, शब्दो व संख्याओं की पहचान कराई जाएगी।आज विंध्या पब्लिक स्कूल केंद्र में लगी इस पहली पाठशाला में निरक्षर महिलाओं को हिंदी/अंग्रेजी वर्णमाला के अक्षर का की पहचान कराई गई साथ ही हिंदी/अंग्रेजी में अपना व अपने परिवार का नाम भी लिखना सिखाया गया।इस दौरान महिलाओं में थोड़ी झिझक व परेशानी तो जरूर रही लेकिन केन्द्रसंचालिका की थोड़ी मेहनत के बाद महिलाओं में शिक्षा की तीव्र ललक जगी और उन्होंने प्रयास शुरू किए।शिक्षा अर्जन की ललक उन महिलाओं की आंखों की चमक में बखूबी देखी जा सकती थी।इस अवसर पर नवरत्न अध्यक्ष अशोक श्रीवास्तव ने अपने उद्बोधन में कहा कि सरकार महिला विकास के लिए योजना तो लाती है लेकिन साक्षरता व शिक्षा के अभाव में आर्थिक रूप से कमजोर महिलाएं वंचित रह जाती हैं।नोएडा में अनुमानतः 1 लाख से अधिक महिलाएं आज भी निरक्षर हैं।उन्होंने कहा हर काम सरकार पर नही छोड़ना चाहिए अगर जागरूक सामाजिक संस्थाएं, बुद्धिजीवी और समाजसेवी प्रयास करें तो अमूलचूक परिवर्तन हो सकता है।नवरत्न ने इसकी पहल की है।21 दिनों में महिलाओं को बुनियादी शिक्षा के साथ पढ़ाई की तरफ रुझान पैदा करने का यह अभियान चलाया जाएगा।और सबके सहयोग से कई दर्जन ऐसे केंद्र खोले जाएंगे ताकि महिलाओं को घर से दूर न जाना पड़े।कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रही पूर्व प्रधान श्रीमती शर्मा ने पूर्ण सहयोग का आश्वासन दिया।इसी प्रकार एनईए, फोनरवा आदि संस्थाओं से सहयोग के साथ त्वरित कार्य करने का वादा किया।इस दौरान पूनम कुमार व मुस्कान श्रीवास्तव ने महिलाओं को गौरवान्वित करने वाले गीतों की प्रस्तुति भी दी जिसका स्वागत करतल ध्वनि के साथ हुआ।इस अवसर पर नोएडा के कई गणमान्य जैसे क्लब 26 के सचिव सुनील पुरी, फोनरवा के महासचिव के.के.जैन, पूर्व अध्यक्ष एन.पी. सिंह, वैद्य अच्युत कुमार त्रिपाठी ,मुशाहिद अली, शमीम अनवर, नेफोमा के अध्यक्ष अनू खान, पियूष मंगला, शिव कुमार शर्मा, रामेश्वर लवानिया, लायन उमेश कुमार, शैलेश कुमार, संतोष कुमार, अंजी कपूर, आर.के. सक्सेना, विवेक श्रीवास्तव, अरविन्द श्रीवास्तव, प्रिंस शर्मा, सुनीता खटाना एवं सयोंजिका श्वेता गुप्ता आदि उपस्थित रहे।
इसके दूसरे सप्ताह 4 अक्टूबर से 12 अक्टूबर तक के पाठ्यक्रम में हिंदी/अंग्रेजी शब्द याद, मात्राओं की पहचान, गिनती, छोटी गणना, संख्या व दो से दस की मेज आदि रखा गया है।तीसरे सप्ताह 14 अक्टूबर से 22 अक्टूबर तक अंग्रेजी वर्णमाला पठन, गणित के छोटे सवाल जोड़, गुणा, भाग, घटाना, हिंदी शब्दो को जोड़कर पढ़ना व संधि विच्छेद सिखाया जाएगा।सिखाने के बाद परीक्षण लेकर प्रतिक्रिया भी दी जाएगी।महिलाओं की यह पाठशाला प्रतिदिन 2 घण्टे निर्धारित की गई है।