बढता तापमान बढा रहा हैडीहाइड्रेशन और हीट स्ट्रोक का खतरा
June 11, 2019 • Akram Choudhary

 

•        हर साल सैकड़ों लोग हीट स्ट्रोक काशिकार होते है.  इस साल लगातार बढतेतापमान को देखते हुए बचाव के उपायोँ कोगम्भीरता से अपनाने की जरूरत है.

•        इस साल गुडगांव  में पारा 45 डिग्रीसेल्शियस तक पहुंच गया है।

•        शरीर को ठंडा रखने के इसके प्राकृतिकमकेनिज्म की वजह से पसीना आता है लेकिनअगर शरीर डीहाइड्रेट हो जाए तो इस प्रक्रियामें रुकावट आती है और हीट स्ट्रोक का खतराबढ जाता है

 

 

गुडगांव, 11 जून, 2019:  गर्मी के दिनोँ में लगातार देश में केतापमान में बढोत्तरी दर्ज की जा रही है। इस साल गुडगांव में पारा45 डिग्री सेल्शियस दर्ज किया गया है। लगातार चल रही गर्महवाओँ ने डीहाइड्रेशन और हीट स्ट्रोक का खतरा बढा दिया है।

मौसम के ग्राफ में जहाँ तापमान में बढोत्तरी के साक्ष्य दिख रहे हैंवहीँ शरीर ने भी अपने एडजस्टमेंट मकेनिजम पर काम शुरू करदिया है। जब शरीर का सामान्य तापमान 98.4 डिग्री फारेनहाइट (37 डिग्री सेल्शियस) में धुप की तपिश के चलते तेजी सेबढोत्तरी होती है, तब शरीर का प्राकृतिक कूलिंग मकेनिजमप्रभावित होता है। गर्मी बढने पर शरीर पसीना प्रतिक्रिया स्वरूपपसीना उत्पादित करती है लेकिन जब शरीर के भीतर पानी कारिजर्व कम हो जाता है, तब शरीर गर्मी के प्रति प्रतिक्रिया नहीं देपाती है और आगे चलकर हीट स्ट्रोक का खतरा बढ जाता है।

कोलम्बिया एशिया हॉस्पिटल के डॉ अमिताभ  घोष, इंटरनल मेडिसिन, कहते  हैं, “ हीट स्ट्रोक का सम्बंध में लम्बेसमय तक धूप मेंरहने और इसके चलते डीहाइड्रेशन होने से है।सामान्य परिस्थितियोँ में, शरीर में पसीना, आंसू, सांस लेने,मल.मूत्र त्यागने आदि के दौरान पानी की कमी होती है। एकस्वस्थ्य व्यक्ति के भीतर, पानी के इस नुकसान की भरपाई तरलपदार्थोँ और पानी वाली चीजेँ खाने से हो जाती है। बुखार,डायरिया अथवा उल्टी आदि होने के दौरान शरीर में बडी मात्रा मेंपानी का नुकसान होता है, और प्राकृतिक जल स्तर कम होने सेडीहाइड्रेशन का खतरा बढ जाता है। यदि व्यक्ति बहुत अधिकसमय तक धूप के सम्पर्क में रहता है और वह भरपूर पानी नहींपीता है तब भी शरीर में पानी की कमी हो जाती है। डीहाइड्रेशनका शिकार हुए शरीर में कई तरह के महत्वपूर्ण सॉल्ट जैसे किसोडियम व पोटैशियम की कमी हो जाती है जो आगे चलकर हीटस्ट्रोक का कारण बनता है।”

हीटस्ट्रोक की चपेट में आए व्यक्ति का तुरंत इलाज होना चाहिएक्योंकि यह स्थिति जाललेवा भी हो सकती है। ऐसे व्यक्ति कोअगले कुछ घंटोँ के लिए एयर-कंडीशंड कमरे में रखने से रिकवरीसुनिश्चित की जा सकती है।

मानव ही नहीं पशु, पक्षी भी गर्मी से समान रूप से प्रभावित होतेहैं। बचाव के तरीकोँ को अपनाकर गर्मी की समस्याओँ से बचाजा सकता है। हीट ट्रोक के लक्षणोँ को झेलने से बचाव के उपायहमेशा बेहतर विकल्प साबित होते हैं।“

कुछ ऐसे उपाय जिन्हेँ अपनाकर आप गर्मी की दिक्कतोँ सेबच सकते हैं:-

•        हाइड्रेशन को बरकरार रखना:- बाहर जाते समयअपने साथ पानी की बोतल जरूर रखेँ।तरल पदार्थज्यादा लेँ। एयरेटेड ड्रिंकलेने से बचेँ, इसकी जगहप्राकृतिक फलोँ के जूसऔर नीम्बू पानी का इस्तेमालकरेँ। यह सुनिश्चित करेँ कि जूस को साफ पानी से तैयारकिया गया है।

•        ढीले.ढाले कपडे पहनेँ : लूज फिटिंग वाले कॉटनके कपडे शरीर को जल्दी ठंडा करने का काम करते हैं।

•        तेज धूप के समय बाहर काम करने से बचेँ: बाहरजाने के लिए सुबह अथवा शाम का वक्त चुनेँ। दोपहरके बाद वाली धूप के सम्पर्क में आने से बचेँ, क्योंकिइस दौरान गर्मी सबसे अधिक होती है। सुरक्षात्मकहेडगियर पहनेँ अथवा छतरी का इस्तेमाल करेँ।

•        पार्क की हुई गाडी में बच्चोँ को कभी न छोडेँ:  खुले में पार्क की हुई गाडी बहुत जल्द गर्म हो जाती हैऔर यह गर्मी मौत का कारण भी बन सकती है। पशुओँको भी हीट स्ट्रोक का खतरा होता है, इसलिए दिन केसमय शॉपिंग करने जाते समय अपने पालतू जानवरोँको भी कार में न छोडेँ।

 

संतुलित मात्रा में पानी पीकर और तेज गर्मी के समयबाहर जाने से बचकर हम हीट स्ट्रोक से बच सकते हैं,जावनवरोँ के लिए घर के बाहर या सडक किनारे भरपूरपानी का इंतजाम करना मानवता के प्रति एक बडायोगदान साबित हो सकता है।