अर्थव्यवस्था का रोजगार एवं व्यवसाय पर दुष्प्रभाव - कारण एवं समाधान" विषय पर अर्थशास्त्र के विशेषज्ञों द्वारा चर्चा
September 9, 2020 • Akram Choudhary

दिल्ली(अमन इंडिया)। राष्ट्र निर्माण पार्टी द्वारा एक वेबीनार का आयोजन किया गया जिसमें "भारत की गिरती की गई इसमें प्रमुख रूप से श्री अनिल चावला जोकि जाने-माने प्रसिद्ध लेखक हैं तथा प्रोफेसर एमएम गोयल जोकि 40 साल तक अर्थशास्त्र का अध्यापन कर चुके हैं, के द्वारा अपने विचार प्रस्तुत किए।

  अनिल चावला ने इस बात पर जोर दिया की सरकार को कर प्रणाली को आसान एवं सस्ता बनाना होगा। सरकारी खर्चे में कटौती करनी होगी। और सरकारी कर्मचारियों के भ्रष्टाचार पर भी नियंत्रण करना होगा। तभी अर्थव्यवस्था पुनर्जीवित की जा सकती है।

इसी प्रकार प्रोफेसर एमएम गोयल ने इस बात की मांग की कि वित्त आयोग को मजबूत बनाने की आवश्यकता है। क्योंकि योजना आयोग खत्म कर दिया गया है तथा नीति आयोग के पास उस प्रकार के अधिकार नहीं है, जिससे अर्थव्यवस्था को मजबूत किया जा सके। साथ ही उन्होंने नीडोनॉमिक्स की व्याख्या करते हुए बताया कि इसके आधार पर अर्थव्यवस्था से संबंधित सभी समस्याओं का समाधान किया जा सकता है।

 कार्यक्रम का संचालन डॉ आनंद कुमार आईपीएस (R) के द्वारा किया गया। उन्होंने सरकार से स्वदेशी व्यापारियों को लालफीताशाही से बचाकर संरक्षण देने की बात कही। उन्होंने बताया यदि हम अपने व्यापारियों की सही ढंग से देखभाल करेंगे तो देश की आर्थिक दुर्व्यवस्था को ठीक किया जा सकता है तथा लोगों को रोजगार भी मिलेगा तथा सरकार को टेक्स में भी कमी नहीं हो पाएगी। अंत में संचालन कर रहे डॉ आनंद कुमार जी ने दोनों प्रमुख वक्ताओं का धन्यवाद किया।