देश में पूर्ण गौ हत्या बंदी लागू करे केंद्र सरकार -राष्ट्र निर्माण पार्टी की मांग
November 8, 2020 • Akram Choudhary

 

दिल्ली(अमन इंडिया)।देश की स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात भी खुले आम हो रही गौ हत्या पर रोक लगाने के लिए 7 नवंबर 1966 को एक बहुत बड़े जन आंदोलन को तत्कालीन इंदिरा गांधी सरकार द्वारा बुरी तरह कुचल दिया गया था। आंदोलन के प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार बहुत बड़ी संख्या में साधु संत एवं आंदोलनकारी गोलियों से भून दिए थे व हजारों लोग घायल हुए थे। उन बलिदानियों की शहादत को याद कर आज हमने यह श्रद्धांजलि सभा यहां आयोजित की है। राष्ट्र निर्माण पार्टी व अन्य सामाजिक संगठनों आर्य समाज, सनातन धर्म, कर्म योगी, वैदिक गुरुकुल परिषद, केंद्रीय आर्य युवक परिषद, थैंक्स भारत, आर्य वीर दल, समयोग फाउंडेशन, दिल्ली वेद प्रचार मंडल, योग शिक्षक संघ, अखिल भारतीय योग शिक्षक महासंघ, योगा लवर्स आदि के सदस्यों द्वारा बलिदानियों की याद में 2 मिनट का मौन रखकर भावभीनी श्रद्धांजलि दी गई। इस भयानक गोलीकांड के लिए तत्कालीन इंदिरा गांधी सरकार की कटु आलोचना भी की गई। राष्ट्र निर्माण पार्टी के महासचिव डॉ आनंद कुमार द्वारा इस गोलीकांड को समग्र हिंदू समाज की अस्मिता पर आक्रमण बताते हुए कहा कि इस गोलीकांड के माध्यम से श्रीमती इंदिरा गांधी ने अल्पसंख्यकों व वामपंथियों को अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिए लामबंद करने का कुत्सित प्रयास किया था।

 इस अवसर पर प्रसिद्ध संत यति नरसिंहानंद सरस्वती ने वर्तमान मोदी सरकार से गौहत्या बंदी के लिए एक केंद्रीय कानून बनाने की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कहा वर्तमान सरकार के पास कोई भी संविधान संशोधन एवं कोई भी बिल पास कराने के लिए आवश्यक बहुमत है। यदि यह कार्य अब नहीं होगा तो पुनः कभी नहीं हो सकेगा। राष्ट्र निर्माण पार्टी के अध्यक्ष ठाकुर विक्रम सिंह ने कहा कि इस देश में हिंदू समाज को छोड़कर अन्य सभी की भावनाओं का ख्याल रखा जाता है। हिंदू समाज के करोड़ों करोड़ लोगों की भावनाओं को गौ हत्या करके आहत किया जाता है पर किसी भी पार्टी को इसकी चिंता नहीं है।

 वैदिक गुरुकुल परिषद के अध्यक्ष स्वामी प्रणवानंद जी ने गौहत्या को इस देश पर एक बड़ा कलंक मानते हुए माननीय मोदी जी से मांग की कि आज इतिहास ऐसे मुहाने पर खड़ा है जहां थोड़ा सा प्रयत्न करने पर भारत माता के माथे पर लगे हुए इस कलंक को मिटाया जा सकता है। दिल्ली आर्य प्रतिनिधि सभा के अध्यक्ष श्री धर्मपाल आर्य ने गाय के महत्व को रेखांकित करते हुए बताया कि गाय समृद्धि, बल एवं बुद्धि का आधार है। अतः उसकी सुरक्षा से ही भारत का विकास हो सकता है। राष्ट्र निर्माण पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव डॉ आनंद कुमार ने जलवायु परिवर्तन तथा पर्यावरण प्रदूषण के लिए Meat Industry (मांस उद्योग) को जिम्मेदार बताते हुए विश्व की सुरक्षा के लिए गौहत्या बंदी को आवश्यक बताया। इसके अतिरिक्त कर्मयोगी संस्था की संस्थापक डॉ कल्पना आचार्या, सतीश सत्यम आदि अनेक विद्वानों ने अपने विचार व्यक्त किए

इस अवसर पर निम्न प्रस्ताव पास किए गए -

 1. माननीय नरेंद्र मोदी जी से राष्ट्र निर्माण पार्टी एवं अन्य सामाजिक संगठन यह मांग करते हैं कि देश में गौ हत्या पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने के लिए एक केंद्रीय कानून बनाया जाए तथा इस कार्य में जो भी बाधाएं हों उन्हें दूर किया जाए।

 2. कानून में कड़ी सजा का प्रावधान हो जिससे कोई भी कानून का उल्लंघन करने की हिम्मत ना कर सके।

  3. देश से बांग्लादेश के लिए हो रही गौ तस्करी को तत्काल प्रभाव से रोका जाए। इसके लिए भी संबंधित क्षेत्रों में पुलिस बल की अतिरिक्त व्यवस्था तथा कानून को सख्त बनाने की आवश्यकता है।

 4. देश में गौशालाओं का जाल बिछाया जाए। जिससे गौओं का पालन एवं संवर्धन बढ़ाया जा सके तथा सभी बच्चों के लिए घी दूध की मुफ्त व्यवस्था हो सके।

यदि सरकार हमारी मांगों पर 26 जनवरी 2021 तक कोई सकारात्मक पहल नहीं करती है तो राष्ट्र निर्माण पार्टी अन्य सामाजिक संगठनों के साथ मिलकर भगवान श्री कृष्ण की जन्मभूमि मथुरा नगरी से 1 फरवरी से देश में जन जागरण अभियान (रथ यात्रा) निकालेगी।