एनजीओ प्लास्टिक की तरह ही बिना सर्जरी के वाल्व को रिप्लेस किया जा सकता है डॉ विवेक कुमार
February 16, 2020 • Akram Choudhary

नोएडा(अमन इंडिया)। अब हृदय रोगियों के लिए वॉल  रिप्लेसमेंट का इलाज सर्जरी के बिना भी संभव है। एनजीओ प्लास्टिक की तरह ही बिना सर्जरी के वाल्व को रिप्लेस किया जा सकता है।
मैक्स हॉस्पिटल के वरिष्ठ हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ विवेका  कुमार ने यह जानकारी दी। सेक्टर 29 स्थित नोएडा मीडिया क्लब में आयोजित पत्रकार वार्ता में डॉक्टर विवेका कुमार ने बताया कि बिना सर्जरी के वाल्व रिप्लेसमेंट की यह प्रक्रिया ट्रांसकैथेटर एयौ टिक वाल्व रिप्लेसमेंट यानी टीएवीआर से संभव है। टीएवीआर एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें एओ टिक वाल्व को पेरीफेरल आर्टरी के माध्यम से प्रत्यारोपित किया जाता है। उन्होंने बताया कि अधिकांश टीएवीआर जांघ की धमनी यानी फेमोरल आर्टरी से किया जाता है। लेकिन कुछ विपरीत मामलों में यह सबवलेवियन आर्टरी, करॉटिड आर्टरी, एओटिक एक्सेस या ट्रांस पेटीएल एसएससी किया जाता है।

डॉ विवेक कुमार ने बताया कि इस प्रक्रिया में एक कैथेटर के जरिए विशेष रूप से डिज़ाइनेट एंओटिक वोल्व को नेटिव वाल्व पर फ्लोरोस्कॉपी के तहत एओर ट्रिक एगनूलस पर प्रत्यारोपित किया जाता है।बाद में उसे पूरी तरह सील किया जाता है ताकि उससे कोई भी रिसाव ना हो और अधिकतम प्रभावी ओपनिंग एवं छेद मिल सके। उन्होंने बताया कि आमतौर पर है सचेत सेडेशन में किया जाता है और अधिकांश रोगियों को दो-तीन दिन में छुट्टी दे दी जाती है।