होमफूडी ने लॉन्च किया भारत का पहला समर्पित होम फूड ऐप
October 21, 2019 • Akram Choudhary

 

एक ऐसा होम फूड ऐप, जो खान-पान की संस्कृति में क्रांतिकारी परिवर्तन का गवाह होगा 
 
नोएडा । (अमन इंडिया) नोएडा स्थित ई-कॉमर्स स्टार्टअप-होमफूडी ने सोमवार को खानसामों (शेफ्स) द्वारा उनके घरों में बने ऑथेन्टिक  होम मेड फूड पर आधारित भारत का पहला मोबाइल ऐप लॉन्च करने की घोषणा की। होमफूडी का मकसद है “घर-घर स्टार्टअप”,और इसे लेकर वह भारत की महिलाओं को घर से पैसा कमाने का सबसे बड़ा अवसर उपलब्ध कराना चाहता है। इस ऐप के माध्यम से महिलाएं अपने घर में रहते हुए होम शेफ बनकर रोज़गार के अवसर पा सकेंगी। साथ ही कम्पनी का मकसद लोगों को स्वस्थ और संतुलित भोजन उपलब्ध कराते हुए हेल्दी और फिट इंडिया अभियान को भी समर्थन देना है।
अभी होमफूडी नोएडा में 100 से अधिक खानसामों के साथ लाइव होने जा रहा है और इसका लक्ष्य आने वाले वर्षों में एक लाख खानसामों को अपने साथ जोड़ना है। होमफूडी पर पंजीकृत हर एक शेफ के पास उनके परिवार से जुड़ी दशकों पुरानी रेसिपी मौजूद है और हर शेफ अपनी विशेषज्ञता के साथ लोगों को साफ-सुथरा और पौष्टिक भोजन पेश करेगा।
होमफूडी हर एक शेफ को अपनी एक अलग पहचान बनाने का मौका देगा। साथ ही इसके माध्यम से वे अनगिनत ग्राहक अपने साथ जोड़कर घर से ही कमाने का मौका पा सकेंगे । होमफूडी पर आने वाले शेफ देश के विभिन्न राज्यों से होंगे और घर में बने विभिन्न प्रकार के व्यंजनों से पूरे देश को एक धागे में पिरो देंगे
कम्पनी के पास दो मोबाइल एप्लीकेशन हैं , एक  शेफ ऐप और एक कस्टमर ऐप। यतिविधि होमफूडी टीम हर घर में जाएगी और खाने की गुणवत्ता, सफाई और उनकी रसोई की जांच करेगी। इसके बाद ही किसी शेफ को होमफूडी प्लेटफॉर्म पर आने का अवसर मिल सकेगा। होमफूडी के सभी होम शेफ 100 फीसदी एफएसएसएआई पंजीकृत होंगे।
ओटीबी स्ट्रेटेजी द्वारा मेट्रो शहरों में स्थित 2000 शेफ्स के बीच गहन शोध के बाद शेफ ऐप को तैयार किया गया है। इसमें शेफ्स की चुनौतियों और आकांक्षाओं को ध्यान में रखा गया है। इस तरह, एक ऐसा ऐप तैयार किया जा सका जिसके आधार पर शेफ्स अपना खुद का मेन्यू, कीमत, ऑर्डर टाइम, आर्डर मात्रा इत्यादि तय कर सकते हैं। साथ ही शेफ्स अपने हिसाब से डिलिवरी या टेकअवे टाइम स्लॉट दे सकते हैं। होमफूडी ऐप में एक बहुत यूनीक फीचर है, जो शेफ्स को आज और आने वाले दिनों के लिए ऑर्डर लेने की आजादी देता है।
होमफूडी में सभी होम शेफ्स सिंगल प्लास्टिक के उपयोग से बचने के लिए कृतसंकल्प हैं। पैकेजिंग के लिए वे 100 फीसदी रीसाइकिएबल मटेरियल इस्तेमाल करेंगे।
होमफूडी एक एसी पहल है, जिसके जरिए 'घर की लक्ष्मी' को 'भारत की लक्ष्मी' बनने का अवसर मिलेगा। साथ ही इससे खान-पान की संस्कृति में क्रांतिकारी बदलाव भी आएगा। भारत में हर परिवार ने दशकों से अपने दोस्तों, परिजनों को अपने शानदार व्यंजनों से मनोरंजित किया है और अब पूरे देश को इस अवसर का लाभ उठाने का मौका मिलेगा। अब ग्राहकों को पूरे देश से घर की लक्ष्मियों के हाथों का बना भोजन करने का सौभाग्य प्राप्त होगा। इससे देश को स्वस्थ और खुश रहने का लाभ मिलेगा। इस ऐप के द्वारा घर के खाने के प्रचलन को पुनर्जीवित करना संभव होगा ।
होमफूडी ऐप गूगल प्लेस्टोर पर उपलब्ध है और नोएडा के सभी होम शेफ्स इसके माध्यम से इस प्लेटफार्म से जुड़ सकते हैं। ग्राहकों को होम शेफ्स के यहां से 27 अक्टूबर, दीवाली के शुभ दिन से भोजन ऑर्डर करने का अवसर प्राप्त होगा।लॉन्च पर होमफूडी के संस्थापक और निर्देशक नरेंद्र सिंह दहिया ने कहा, ''हमारा उद्देश्य घर-घर स्टार्टअप है और हम भारत में महिलाओं के लिए स्वरोजगार का सबसे बड़ा अवसर पैदा करना चाहते हैं। इसके माध्यम से हम देश निर्माण में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करना चाहते हैं। होमफूडी एक एसी पहल है, जो महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देगा और 'घर की लक्ष्मी अब बनेगी भारत की लक्ष्मी' को चरितार्थ करेगा ।“
होमफूडी अपना आपरेशन नोएडा से शुरू कर रहा है और जल्द ही यह देश के टॉप-10 शहरों तक अपनी पहुंच बनाएगा। होमफूडी एप्लीकेशन अभी एंड्रायड पर उपलब्ध है और जल्द ही इसका आईओएस वर्जन लॉन्च किया जाएगा।
होमफूडी की सह-संस्थापक और निर्देशक डॉ. मोना दहिया ने कहा, ''ग्राहक शानदार भोजन तैयार करने वाले होम शेफ्स के माध्यम से अपने पसंदीदा व्यंजनों के साथ नाता जोड़ सकते हैं। हम सभी होम शेफ्स का स्वागत करते हैं। इन सबके माध्यम से हम भारत को स्वस्थ और फिट बनाना चाहते हैं और साथ ही लोगों को स्वस्थ और संतुलित भोजन उपलब्ध कराना चाहते हैं।''