किसानों के हित में किसान एकता संघ संघर्ष करेगी : अम्बावत
March 16, 2020 • Akram Choudhary
 

" alt="" aria-hidden="true" />

नोएडा(अमन इंडिया)। किसान एकता संघ ने आज सेक्टर 29 स्थित नोएडा मीडिया सेंटर में आयोजित प्रेस वार्ता में कहा कि आज देश के अन्नदाता किसान बदहाल स्थिति में है। जब तक किसानों को वाजिब हक नहीं मिल जाता तब तक किसान एकता संघ सुखचैन  से नहीं बैठेगा।
 किसान एकता संघ के राष्ट्रीय संरक्षक चौधरी बाली सिंह अंबावत ने कहा कि किसान एकता संघ किसानों की समस्याओं को जोरदार ढंग से उठाएगी और उन मुद्दों पर संघर्ष करेगी जो किसानों के हित में आवश्यक होगा। उन्होंने बताया कि कुछ किसान नेता छद्म का सहारा लेकर अधिकारियों से सांठगांठ कर किसानों की आंखों में धूल झोंक रहे हैं। ऐसे नेता किसानों को कभी भी भला नहीं कर सकते, बल्कि वह नुकसान पहुंचा रहे हैं। ऐसे में किसान एकता संघ ऐसे नेताओं से किनारा कर अलग संघर्ष करेगी। किसान एकता संघ का गठन भी इसी उद्देश्य को लेकर किया गया है।
 इस मौके पर अर्जुन प्रजापति को किसान एकता संघ का नोएडा महानगर अध्यक्ष की घोषणा की गई।  इसके पहले श्री प्रजापति युवा प्रकोष्ठ के महानगर अध्यक्ष थे।
 प्रेस को संबोधित करते हुए किसान एकता संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष सोरेन प्रधान ने कहा कि आज देश में भाजपा की कथनी करनी में भारी अंतर है। भाजपा सरकार में किसानों का कोई भला नहीं हो रहा है। किसान हताश, निराश और परेशान हैं। उन्हें प्राधिकरण से 64% बढ़े हुए मुआवजा, 10% मुआवजा, विकसित भूखंड सहित आबादी के मामलों का निस्तारण नहीं किया जा रहा है। जिले के जनप्रतिनिधि भी किसानों के मुद्दों पर मौन साध रखा है। किसानों पर लगातार जुर्म किया जा रहा है।  कोई बोलने वाला नहीं है।
 हालांकि किसान एकता संघ ने 22 मार्च को राष्ट्रीय किसान सम्मेलन करने की घोषणा की थी जिसे कोरोना वायरस के कारण स्थगित कर दिया गया हैैैैै लेकिन जैसे ही कोरोना वायरस सेे मुक्ति मिलेगी किसान एकता संघ नई आंदोलन की रूपरेखा बनाकर डीएम व तीनों प्राधिकरणों का घेराव करेगी।

इस मौके पर रमेश कसाना ने कहा की किसानों की आमदनी दुगुना करने की घोषणा की गई थी, लेकिन आज तक अमल नहीं हुआ, जिसके कारण किसान अपनी फसल का वाजिब मूल्य नहीं ले पा रहे हैं। नोएडा सहित अन्य जगहों पर किसान अपने हक के लिए आंदोलनरत हैं, लेकिन सरकार उनकी समस्याओं के समाधान की जगह उनकी आवाज दबाने में लगी हुई है। किसान एकता संघ ने पहले भी किसानों की आवाज को बुलंद करने के लिए संघर्ष किया था और आगे और मजबूती से उनकी समस्या के समाधान में अपनी भूमिका निभाएगा।
 इस अवसर पर पूर्व मंत्री अनिल सिंह, समाजसेवी अशोक चौहान, बृजेश भाटी, प्रमोद शर्मा, जितेंद्र अंबावत, जतन भाटी, ललित अवाना, पप्पू प्रधान, कृष्ण नागर, राजेश अंबावत, अमित अवाना, अविनाश सिंह, सतीश कनारसी, गोविंद अवाना, संदीप अवाना, सुषमा गुप्ता, अशोक शर्मा सहित अन्य किसान मौजूद थे।