लैप्रोस्कोपिक की मदद से 5 किलो का ट्यूमर युवती के पेट से निकाला
November 28, 2019 • Akram Choudhary





 नई दिल्ली ﴾अमन इंडिया﴿।  । एस्कॉर्ट्स हॉस्पिटल के डॉक्टरों की टीम ने हाल में लैप्रोस्कोपिक तकनीक की मदद से 22 वर्षीय युवती के पेट से 5 किग्रा वजन का एक ट्यूमर सफलतापूर्वक निकाला। टीम का नेतृत्व डॉ. बी डी पाठक, निदेशक-जीआई, मिनीमली इनवैसिव एंड बेरियाट्रिक सर्जरी और डॉ. वी एस चैहान, वरिष्ठ सलाहकार-जीआई, मिनीमली इनवैसिव एंड बेरियाट्रिक सर्जरी, फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हॉस्पिटल, फरीदाबाद ने किया।

डॉ. बी डी पाठक, निदेशक-जीआई, मिनीमली इनवैसिव एंड बेरियाट्रिक सर्जरी, फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हॉस्पिटल, फरीदाबाद ने कहा,“इस तरह की सर्जरी के लिए बड़ा कट लगाने की जरूरत होती है लेकिन यह मरीज बहुत युवा थीं। उनके सामने उनकी पूरी जिंदगी पड़ी हुई थी। इसलिए हम ने लैप्रोस्कोपिक तकनीक का इस्तेमाल कर छोटे कट के साथ बड़े ट्यूमर को निकाला गया।
मोहित सिंह, फेसिलिटी निदेशक, फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हॉस्पिटल, फरीदाबाद ने कहा,“फोर्टिस में हम प्रत्येक मामले में सर्वश्रेष्ठ परिणाम हासिल करने के लिए सर्वश्रेष्ठ क्लिनिकल परिदृश्य की ओर ध्यान केंद्रित करते हैं। यह मामला सर्वश्रेष्ठ उपयोग के लिए टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करके सर्वश्रेष्ठ परिणाम हासिल करने का है।
 उन्होंने बताया कि मरीज सरिता को सांस लेने में मुश्किल हो रही थी और ठीक से भोजन भी नहीं कर पा रही थी। जब उन्हें अस्पनताल लाया गया तो पेट में परेशानी हो रही थी और सांस लेने में भी तकलीफ थी। जरूरी जांच कराने के बाद उनके पेट में करीब 5 किग्रा का ट्यूमर पाया गया। उपचार के विभिन्न विकल्पों का मूल्यांकन करने के बाद डॉक्टरों ने परिवार को एडवांस लैप्रोस्कोपिक एक्सट्रैक्शन कराने की सलाह दी क्योंकि इसके बाद सर्जरी का कोई निशान भी नहीं रहता और सुधार में लंबा समय भी नहीं लगता है। प्रक्रिया पूरी होने के दो दिनों में मरीज की तबियत में सुधार हो गया और पूरी तरह ठीक हो जाने पर उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया।