नारेडको के यूपी चैप्टर ने राज्य में 1 लाख प्रवासी श्रमिकों को रोजगार प्रदान करने की पेशकश की:अरोड़ा
June 24, 2020 • Akram Choudhary

नारेडको के यूपी चैप्टर ने राज्य में 1 लाख प्रवासी श्रमिकों को रोजगार प्रदान करने की पेशकश की

  

नोएडा(अमन इंडिया)।कोविड-19 महामारी के कारण लागू किए गए देशव्यापी लॉकडाउन के बाद देश के विभिन्न राज्यों से लौटे प्रवासी श्रमिकों की मदद के लिए नारेडको के यूपी चैप्टर ने कदम आगे बढ़ाया है। इन श्रमिकों को आर्थिक रूप से समर्थन करने के उद्देश्य से, प्रमुख रियल एस्टेट संगठन, नेशनल रियल एस्टेट डेवलपमेंट काउंसिल (नारेडको) ने एक लाख श्रमिकों को तुरंत रोजगार देने की पेशकश की है। इन श्रमिकों को यूपी में विभिन्न रियल एस्टेट परियोजनाओं में तुरंत प्रभाव से काम किया जाएगा। 26 जून को सेक्टर 94, सुपरनोवा प्रोजेक्ट साइट पर नारेडको-यूपी निर्माण श्रमिकों को रोजगार पत्र देगा। इसके साथ ही नारेडको ने निकट भविष्य में लगभग 2.5 लाख श्रमिकों को रोजगार देने के अपने वादे को पूरा करने की तरफ कदम बढ़ा रहा है।

नारेडको-यूपी ने लगभग 63 विभिन्न जिलों के श्रमिकों की पहचान की और उन्हें निर्माण स्थलों पर सफलतापूर्वक स्थापित करने के लिए परिवहन की सुविधा भी प्रदान की है। ये श्रमिक पहले ही यूपी राज्य में विभिन्न रियल एस्टेट परियोजनाओं में काम शुरू कर चुके हैं।

राज्य सरकार ने नारेडको-यूपी को लगभग 12 लाख मजदूरों का एक डेटाबेस प्रदान किया था और जिसमें से 1 लाख श्रमिकों को विभिन्न निर्माण स्थलों में तुरंत काम देने के लिए पहचान की गई थी।

यूपी से बड़ी संख्या में महामारी फैलाने वाले श्रमिकों को काम देने की अपनी प्रतिबद्धता को पूरा करने के लिए, नारेडको-यूपी ने एक विशाल डेटाबेस से श्रमिकों को चुनने के लिए काफी अधिक प्रयास किए हैं ताकि उनको तुरंत अलग अलग रियल एस्टेट प्रोजेक्ट्स में उनकी क्षमता के अनुसार काम प्रदान किया जा सके।

इससे पहले, नेशनल रियल एस्टेट डेवलपमेंट काउंसिल (नारेडको)-यूपी द्वारा उत्तर प्रदेश सरकार के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए थे। इस एमओयू के तहत नारेडको-यूपी डेवलपर्स की रियल एस्टेट परियोजनाओं में लगभग 2.5 लाख प्रवासी श्रमिकों और मजदूरों को काम देने का करार किया गया है। 

इस नए घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया देते हुए नारेडको-यूपी के  प्रेसिडेंट और चेयरमैन, सुपरटेक श्री आर.के. अरोड़ा ने कहा कि “कई श्रमिकों को कोविड-19 के फैलने के बाद बेरोजगारी बढ़ने के कारण लोगों को कठिन समय का सामना करना पड़ा। बड़ी संख्या में लोग अपने अपने शहरों से वापिस अपने मूल गांव-शहरों के लिए रवाना हुए और उनमें से काफी वापस यूपी आ गए हैं। यह सुनिश्चित करने के लिए, उन्हें काम मिलता रहे और वे अपने घरों में अपने परिवारों का पालन करने के लिए आजीविका कमाते रहें, हमने लगभग एक लाख मजदूरों का एक डेटाबेस बनाया है जो राज्य में रियल एस्टेट परियोजनाओं के निर्माण स्थलों में तुरंत काम पर लग जाएंगे। इससे केवल श्रमिकों बल्कि यूपी में रियल एस्टेट डेवलपर्स को भी मदद मिलेगी, जिन्हें अपनी परियोजनाओं पर काम को तेज करने की आवश्यकता है जो कोविड-19 संकट के कारण काफी अधिक चुनौतियों का सामना कर रहे हैं।”