फोर्टिस अस्‍पताल वसंत कुंज के डॉक्‍टरों ने 3डी प्रिंटिंग टैक्‍नोलॉजी की मदद से 30 वर्षीय कैंसर सरवाइवर के जबड़े की हड्डी रीकंस्‍ट्रक्‍ट की
February 19, 2020 • Akram Choudhary

अपनी तरह की पहली सर्जरी: फोर्टिस अस्‍पताल वसंत कुंज के डॉक्‍टरों ने 3डी प्रिंटिंग टैक्‍नोलॉजी की मदद से 30 वर्षीय कैंसर सरवाइवर के जबड़े की हड्डी रीकंस्‍ट्रक्‍ट की

  • मरीज़ सात साल में पहली बार सही ढंग से भोजन को चबाने में बना सक्षम

 

नई दिल्‍ली (अमन इंडिया): फोर्टिस फ्लाइट लेफ्टिनेंट राजन ढल अस्‍पताल वसंत कुंज के डॉक्‍टरों ने अपनी किस्‍म की अनूठी और पहली प्रक्रिया को अंजाम देते हुए 3डी प्रिंटिंग टैक्‍नोलॉजी की मदद से हाल में एक मरीज़ के जबड़े को रीकंस्‍ट्रक्‍ट किया है। इस अनूठी टैक्‍नोलॉजी की मदद से टिटेनियम जबड़े को तैयार किया गया था और इसे फरीदाबाद के एक 30 वर्षीय पुरुष को लगाया गया। इस नए जबड़े की मदद से अब उसका अपने मुंह पर पूरा नियंत्रण वापस आ गया है और सात साल में यह पहला मौका है जबकि वह अपना भोजन सही तरीके से चबाकर खाने में समर्थ हुआ है। कैंसर ग्रस्‍त होने की वजह से डॉक्‍टरों को पूर्व में इस व्‍यक्ति का जबड़ा निकालना पड़ा था। नए जबड़े के साथ हीअब इस व्‍यक्ति का आत्‍मविश्‍वास भी लौट आया है और वह अपने बाहरी लुक को लेकर पहले से ज्‍यादा विश्‍वस्‍त है। इस अनूठी प्रक्रिया को फोर्टिस फ्लाइट लेफ्टिनेंट राजन ढल अस्‍पताल वसंत कुंज के डॉ मंदीप सिंह मलहोत्राहैड ऑफ डिपार्टमेंटहैडनैक एंड ब्रैस्‍ट ओंकोलॉजी तथा उनकी टीम ने अंजाम दिया।

 

श्री प्रभजीतजो कि फरीदाबाद के निवासी हैं और कॉर्पोरेट एग्‍ज़ीक्‍युटिव हैंसात साल पहले कैंसर की वजह से अपने जबड़े की हड्डी के दायें आधे भाग को गंवा चुके थे। उन्‍हें कैंसर मुक्‍त करने के लिए डॉक्‍टरों को उनके टैंपोरोमैंडीब्‍यूलर (टीएम) ज्‍वाइंट के साथ ही इसे भी हटाना पड़ा था। टीएम ज्‍वाइंट ही जबड़े की मोबिलिटी को नियंत्रित करता है। पिछले वर्षों मेंबाकी बचे रह गए मैंडिबल के सरकने की वजह से उनके जबड़े के निचले और ऊपरी भाग आपस में जुड़ नहीं पा रहे थे। इसके परिणामस्‍वरूप उनके जीवन की गुणवत्‍ता प्रभावित हो रही थी क्‍योंकि वे खाना चबाने में असमर्थ थे और सिर्फ दलिया या खिचड़ी जैसा पतला या नरम भोजन ही ले सकते थे। इसके अलावाइसकी वजह से उनके गाल में बार-बार बाइट अल्‍सर भी रहने लगा था जो दर्द का कारण तो था ही,साथ ही कैंसर के दोबारा पनपने की आशंका भी बढ़ गई थी। मरीज़ को एसएलई (सिस्‍टेमेटिक ल्‍युपस एरिथेमेटॉसिस) के रूप में क्रोनिक रोग भी था।

 

इस मामले की क्‍लीनिकल चुनौतियों के बारे में डॉ मंदीप एस मलहोत्रा ने कहा‘’एसएलई रोग और टीएम ज्‍वाइंट के रीकंस्‍ट्रक्‍शन के चलते हम इस मामले में पारंपरिक प्रक्रिया नहीं अपनाना चाहते थे जिसमें जबड़े की हड्डी रीकंस्‍ट्रक्‍ट करने के लिए पैर के निचले भाग से फिब्‍युला का इस्‍तेमाल किया जाता है। एसएलई के चलते फिब्‍युला हड्डी तक रक्‍त प्रवाह नहीं हो पा रहा थासाथ हीइस प्रक्रिया में पैर की एक हड्डी भी गंवानी पड़ सकती थी जिसकी भरपाई नहीं हो सकती थी। टीएम ज्‍वाइंट रीकंस्‍ट्रक्‍शन सिर्फ प्रोस्‍थेटिक ज्‍वाइंट तैयार कर उसे उपयुक्‍त स्‍थान पर लगाकर ही मुमकिन थो। लिहाज़़ाहमने 3डी प्रिंटिंग टैक्‍नोलॉजी की मदद से प्रोस्‍थेटिक जॉ तैयार करने पर विचार किया जिसके लिए टिटेनियम का इस्‍तेमाल किया गया जो कि सर्वाधिक बायोकॉम्‍पेटिबल और लाइट मैटल है। प्रोस्‍थेटिक जॉ बोन के ऊपरी हिस्‍से के इर्द-गिर्द आवरण की तरह जो हिस्‍सा हैजिसे कॉन्‍डाइल कहा जाता हैका निर्माण अल्‍ट्रा हाइ मॉलीक्‍यूलर वेट पॉलीथिलिन से किया गया।''

 

 

 

मरीज़ के चेहरे का एक सीटी स्‍कैन कराया गया जिसके लिए सीटी-डेटा मॉडलों की मदद ली गई। बचे हुए बाएं मैंडिबल का इस्‍तेमाल कर उसकी मिरर इमेज की मदद से एक स्‍कल मॉडल बनाया गया जिसमें पूरा मैंडिबल भी थ। हमने प्रोस्‍थेटिक स्‍कल मॉडल का विस्‍तृत रूप से अध्‍ययन किया ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि ऊपरी और निचला जबड़ा पूरी तरह से अपने स्‍थान पर रहे। इसके बादवास्‍तविक इंप्‍लांट का एक प्रोस्‍थेटिक मॉडल भी विकसित किया गया जिससे हम कार्यप्रणाली और एस्‍थेटिक्‍स जैसे पक्षों का अध्‍ययन कर सके। हमने स्‍कल मॉडलों पर इंप्‍लांट तथा नए टीएम ज्‍वाइंट दोनों ही लगाने की योजना तैयार की। यह प्रक्रिया 9 महीने से अधिक अवधि तक जारी थी। प्रभात और डॉ नेहा ने सही एलाइनमेंट प्राप्‍त करने के लिए काफी प्रयास किए। प्रोस्‍थेटिक मैंडिबल के मॉडलों को कई बार बदला भी गया। डॉक्‍टरों का प्रयास यह था कि नया जबड़ा सामान्‍य से भी बेहतर हो। आखिरकरकई बार जांच और परीक्षणों के बाद हमने 3डी टैक्‍नोलॉजी की मदद से इंप्‍लांट को वास्‍तविक बायोकॉम्‍पेटिबल टिटेनियम में बदलने में सफलता हासिल की।

 

रीकंस्‍ट्रक्‍शन सर्जरी के बारे में डॉ मलहोत्रा ने आगे जानकारी देते हुए बताया''इधर हम अपनी योजनाओं पर काम कर रहे थे और साथ ही मरीज़ को स्पिलंट्स दिए गए तथा उन्‍हें इंटेंसिव फिजियोथेरेपी भी करवायी गई। प्रोस्‍थेटिक मैंडिबल के लिए ट्रायल मॉडलों कोजैसे-जैसे जॉ की एलाइनमेंट होती रही, अलग-अलग समय पर संशोधित किया जाता रहा। यह प्रक्रिया पूरे 9 महीनों तक चली। प्रभात और मेरी सहयोगी डॉ नेहा ने सही एलाइनमेंट हासिल करने के लिए भरपूर प्रयास जारी रखे। हमारी कोशिश थी कि नया जबड़ा सामान्‍य से भी बेहतर हो।''