फोर्टिस हैल्‍थकेयर और सुकून हैल्‍थ ने मिलकर शुरू किया भारत का  पहला स्‍पेश्‍यलाइज्‍़ड मेंटल हैल्‍थ हॉस्पिटल
October 10, 2020 • Akram Choudhary

 

 

 

दिल्‍ली-एनसीआर(अमन इंडिया)। विश्‍व मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य दिवस के मौके पर, फोर्टिस हैल्‍थकेयर और सुकून हैल्‍थ ने मिलकर भारत का पहला स्‍पेश्‍यलाइज्‍़ड मेंटल हैल्‍थ हॉस्‍पीटल शुरू करने की घोषणा की है। गुरुग्राम के सैक्‍टर 56 में खुले भारत के इस पहले सुपर स्‍पेश्‍यलिटी मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य अस्‍पताल में इनपेशेंट और आउटपेशेंट मरीज़ों के लिए साइकेट्री, साइकोलॉजी, डि-एडिक्‍शन, और रीहेबिलिटेशन की सुविधाएं उपलब्‍ध हैं। इस वर्ल्‍ड-क्‍लास फैसिलिटी के सुरक्षित माहौल में 24x7 घंटे सेवाएं उपलब्‍ध करायी गई हैं। यहां अत्‍याधुनिक सुविधाओं जैसे साइकेट्रिक आईसीयू, आर्ट थेरेपी स्‍टूडियो, योग एवं फिटनैस सेंटर, टैरेस गार्डन और मनोरंजन के लिए लाउंज आदि भी हैं। साथ ही, वर्चुअल थेरेपी रूम भी है जहां इलाज के उपरांत मरीज़ को स्‍वास्‍थ्‍यलाभ के लिए रखा जाएगा। 

अस्‍पताल के लॉन्‍च के मौके पर डॉ आशुतोष रघुवंशी, एमडी एवं सीईओ, फोर्टिस हैल्‍थकेयर ने कहा, ‘'हम भारत में मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य की समस्‍याओं को देखते हुए इस अत्‍याधुनिक स्‍वास्‍थ्‍य सुविधा को शुरू करने की घोषणा करते हुए बेहद खुशी महसूस कर रहे हैं। फोर्टिस हैल्‍थकेयर ने पहले भी इसी तरह की कई पहल की हैं और यह कदम मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य के मोर्चे पर इलाज की कमियों को दूर करने की दिशा में बढ़ाया गया अगला कदम है। मानसिक रोगों के उपचार के लिए अलग से इनपेशेंट सुविधा स्‍थापित करना महत्‍वपूर्ण है। भारत में मानसिक विकारों के बढ़ते मामलों के चलते ऐसा करना जरूरी है और साथ ही इनके उपचार पर ध्‍यान देना पहले से ज्‍यादा महत्‍वपूर्ण हो गया है।'' 

गौर करने की बात है कि दुनियाभर में और भारत में भी मानसिक रोग बढ़ रहे हैं। मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य के मोर्चे पर ये विकार धीरे-धीरे वैश्विक महामारी का रूप ले रहे हैं और इस तरफ तत्‍काल ध्‍यान देने की जरूरत है। पिछले एक दशक में, भारत में युवाओं में आत्‍महत्‍या के मामलों में तेजी आयी है। सबसे ज्‍यादा आम डिप्रेशन और एंग्‍ज़ाइटी है। इनके अलावा, शिज़ोफ्रेनिया, बाइपोलर डिसॉर्डर, इडियोपैथिक डेवलपमेंटल इंटेलेक्‍चुअल डिसेबिलिटी, कंडक्‍ट 

डिसॉर्डर, और ऑटिज्‍़म आदि अन्‍य विकार हैं जो लगातार बढ़ रहे हैं। लांसेट द्वारा फरवरी 2020 में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में 19.7 करोड़ भारतीय मानसिक विकारों से ग्रस्‍त हैं जिनमें 4.57 करोड़ मामले डिप्रेसिव डिसॉर्डर तथा 4.49 करोड़ मामले एंग्‍ज़ाइटी डिसॉर्डर के हैं। 

अस्‍पताल के उद्घाटन के मौके पर विदित बाहरी एवं कनिष्‍क गुप्‍ता, सुकून हैल्‍थ ने कहा, ‘'हम इस पार्टनरशिप की घोषणा करते हुए बेहद खुशी महसूस कर रहे हैं। फोर्टिस हैल्‍थकेयर के साथ हमारा गठबंधन हमारे सभी मरीज़ों के लिए सर्वाधिक दयाभाव के साथ देखभाल सुनिश्चित करेगा। हमने 2023 तक 500 अतिरिक्‍त बैडों की व्‍यवस्‍था करने तथा आगे चलकर, इनपेशेंट एवं आउटपेशेंट मरीज़ों के इलाज के स्‍तर पर भारी अंतर को दूर करने के साथ-साथ आवश्‍यकतानुसार हस्‍तक्षेप करने का लक्ष्‍य रखा है। इस प्रोजेक्‍ट के रूप में हम प्रीमियम हॉस्‍पीटेलिटी के साथ-साथ ऐसी विशिष्‍ट सेवाएं प्रदान करने का उद्देश्‍य लेकर आए हैं जो भारत में मेंटल हैल्‍थ इंडस्‍ट्री का चेहरा हमेशा के लिए बदलकर रख देंगी।'' 

अस्‍पताल के लॉन्‍च पर डॉ समीर, डायरेक्‍टर, डिपार्टमेंट ऑफ मेंटल हैल्‍थ एंड बिहेवियरल साइंसेज़ ने कहा, ''देश में हर 7 में से एक व्‍यक्ति किसी न किसी प्रकार की मानसिक समस्‍या से ग्रस्‍त है और अब दुनियाभर में महामारी की पकड़ और मजबूत होने के बाद, एंग्‍जाइटी तथा डिप्रेशन जैसे विकारों से पीड़‍ित मरीज़ों की संख्‍या में भारी व़द्धि हुई है। मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य से जुड़े विकारों के मामले में सबसे गंभीर पहलू यह होता है कि इनसे ग्रस्‍त लोगों को ही खुद अपनी मानसिक स्थिति के बारे में मालूम नहीं होता। इसके अलावा, इन रोगों/विकारों को लेकर समाज में शर्मिंदगी भी कायम है। सुकून हैल्‍थ के लॉन्‍च के साथ, हम मरीज़ों के लिए 360 डिग्री सपोर्ट और अत्‍याधुनिक हैल्‍थकेयर इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर उपलब्‍ध कराने का इरादा रखते हैं।''